बिहार विधानसभा चुनाव: अंधों में काना राजा

Post information

  • Category: Blog
  • Post date: .... 2020




आज से बिहार विधानसभा चुनाव का शंखनाद हो रहा है।
15 साल जंगलराज,
फिर कुछ साल मंगलराज फिर वही हाल..
हर साल बाढ़ और वहीं हर साल जान-माल का नुक़सान,
बेरोजगारी, पलायन, शिक्षा व्यस्था बदहाल..
संसाधन की कमी , समाधान का नहीं कोई हाल चाल,
मां बाप से राजनीति विरासत में मिली बैल बुद्धि का हाहाकार..
कई पुराने दिग्गज नहीं है इस बार, लेकिन कुछ नए खिलाड़ी भी है इस बार..
ये सब याद रखते हुए कल ही हुआ मुंगेर में नरसंहार,
यानी कुल मिला के ल*#। के सरकार...!
सब याद रखा जाएगा और वोट जरुर मारा जाएगा।

इतना सब मुद्दा है , वादा है, नारा है लेकिन चुनाव इस पर नहीं होगा जिस दिन बिहार में चुनाव मुद्दा पर हो जाए ना उस दिन नोटा जीत जाएगा।
तो सब के सार ईहे बा कि "अंधों में काना राजा" चुने के बा। वोटिंग करी जा दबा के। नोटा ता झुनझुना लेखा बा जेकरा बजैला से कोई रोवत ओ रही ता चुप ना होई। बाकी 5 साल में इहे एगो मौका मिलेला आपन यानी आम जनता के ताकत देखावे के ओकरा बाद त मालिक-२, नेता जी-२ कर के पछताए के ही बा।
जय हिन्द , जय भारत , जय बिहार। ☑️🗳️
(~ अभिषेक कुमार)