Grow your knowledge with Letskhabar

Made by common people for the common people.

Get Started

Post

क्या हम बदलेंगे, की हमारा समाज और हमारी सोच और नीचे जाएगी।

चलिये मिलकर इस ख़बर को पढ़ते हैं। एक पाँच साल की बच्ची को बलात्कार की धमकी एक मरे हुए समाज में ही मिल सकती है। आपकी जांघों के बीच आपका पुरुष होने का दम्भ जिंदा है। ये मानसिकता भरी जाती है लोगों के अंदर।

बाबा का ढाबा: सोशल मीडिया की सकारत्मक पहल। एक संदेश- सूर्यांश ठाकुर की कलम सें!❤️🇮🇳 !

संघर्ष के अस्सी साल। अस्सी साल बाद वो दिन आखिर आ ही गया। अस्सी साल बाद आँखो में भरा गर्म पानी ठंडा होकर आज बहा। चेहरे की झुर्रियां जो गर्म पानी से कट गई थी, उन्हें आज अस्सी साल बाद

यशस्वी जायसवाल खूब आगे बढिए, यसस्वी भवः!🔥❤️🇮🇳 !

दो साल पहले मुझे एक ऐसे बच्चे के बारे पता चला जो आजाद मैदान के बाहर पानी पूरी बेचा करता था। जानकार कह रहे थे कि तेंदुलकर, कांबली, रोहित और पृथ्वी शॉ के बाद ये बच्चा मुंबई क्रिकेट की सबसे बड़ी खोज है। उस बच्चे का नाम था— यशस्वी जायसवाल।

मैं पल दो पल का शायर हूँ, पल दो पल मेरी कहानी है! Thank you dhoni, Miss you Mahi!

शुक्रिया माही उन सारी खुशियों के लिए जब आपने भारत को जिताया हर मैच, हर सीरीज, हर विश्व कप। शुक्रिया माही उन सारे उपलब्धियों पर जो आपके नेतृत्व में भारत को मिली चाहे वो टेस्ट में नंबर एक बनना हो, T-20 विश्व कप,

विश्व जनसंख्या नियंत्रण दिवस

आज विश्व जनसंख्या नियंत्रण दिवस है और ये लिखते हुए इस वक्त दुनिया की आबादी 7.7 बिलियन है जो हर दिन, हर घंटे, हर सेकंड बढ़ती जा रही है। दुनिया की छोड़िए हम अपने भारत की बात करते है। ये जनसंख्या विस्फोट क्यों हो रहा है, कैसे रुकेगा, क्या करना चाहिए

अलविदा सुशांत!

हम इस लड़के को जानते है, बचपन से इनको देखते आ रहे है मानव के रूप में पहचान हुई थी हमारी टीवी के माध्यम से पवित्र रिश्ता सीरियल में, तब लगता था यार ये कितना रोता है ये मानव , लेकिन सब अच्छे से संभाल भी लेता था। हालंकि एकता कपूर की उस सीरियल में सभी किरदार ही कुछ ज्यादा ही भावुक थे।

मौजूदा भारत की असली तस्वीर👇👇

जब सत्ता की सनक सर चढ़कर बोलने लगती है तो वह इंसान को अपने मार्गों से भटका देती है। और इसका परिणाम यह होता है कि अनुशासन हीनता पर अफसर उतारू हो जाते हैं। मध्यप्रदेश के राजगढ़ में भाजपा के कार्यकर्ता CAA के समर्थन में सड़क पर मार्च कर रहे थे।

किसान के ख़ुशी #वास्तविक__दर्द...

स्कूल प्रिंसिपल ने बहुत ही कड़े शब्दों मे जब किसान की बेटी ख़ुशी से पिछले एक साल की स्कूल फीस मांगी ,तो ख़ुशी ने कहा मैडम मे घर जाकर आज पिता जी से कह दूंगी , घर जाते ही बेटी ने माँ से पूछा पिता जी कहाँ है ?

Contact Us

Letskhabar

Grow your knowledge with Letskhabar

Delhi
INDIA